Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ..’मै मिलूंगा तुझे…. अज़नबी की तरह..’

===*====*========*====*=*
ज़िंदगी में तड़प .. तिश्नगी की तरह
मौत से मिलन हो.. ज़िंदगी की तरह

आएगा ख्वाब फिर से.. यही सोचकर
आँख मूंदी रही…… तीरगी की तरह

ज़िंदगी के किसी मोड़ पर… आदतन
मै मिलूंगा तुझे…. अज़नबी की तरह

बेल सादाब थी….. मौसमी भी हवा
याद आया शख्स वो.. कमी की तरह

बदलती हैं इन दिनों… हरेक फितरत
गिरगिटों की शक्ल.. आदमी की तरह

कुछ अलग किस्म के लोग.. मिलते यहाँ
साथ रहते… …गगन व धरती की तरह

शौक की तरह प्यार करते हैं सनम
दिल दिल्लगी ‘ब’ आवारगी की तरह
===============*====*=*=*
रजिंदर सिंह छाबड़ा

148 Views
You may also like:
मैं ही मैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सपनों की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
माँ चंद्र घंटा
Vandana Namdev
कबीरा...
Sapna K S
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
【21】 *!* क्या हम चंदन जैसे हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेताब दिल की तमन्ना
VINOD KUMAR CHAUHAN
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तस्वीर
विशाल शुक्ल
प्रीत
अमरेश मिश्र 'सरल'
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
रंगे _,वफा
shabina. Naaz
कलयुग का परिचय
Nishant prakhar
अनोखी सीख
DESH RAJ
✍️मेरे भीतर का बच्चा
'अशांत' शेखर
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
" राज संग दीपावली "
Dr Meenu Poonia
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
*मिली जिसको भी सत्ता, आदमी मदहोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डर लगता है
Shekhar Chandra Mitra
"तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!"
पाण्डेय चिदानन्द
आज आदमी क्या क्या भूल गया है
Ram Krishan Rastogi
Loading...