Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल (बचपन यार अच्छा था)

जब हाथों हाथ लेते थे अपने भी पराये भी
बचपन यार अच्छा था हँसता मुस्कराता था

बारीकी जमाने की, समझने में उम्र गुज़री
भोले भाले चेहरे में सयानापन समाता था

मिलते हाथ हैं लेकिन दिल मिलते नहीं यारों
मिलाकर हाथ, पीछे से मुझको मार जाता था

सुना है आजकल कि बह नियमों को बनाता है
बचपन में गुरूजी से जो अक्सर मार खाता था

उधर माँ बाप तन्हा थे इधर बेटा अकेला था
पैसे की ललक देखो दिन कैसे दिखाता था

जिसे देखे हुआ अर्सा , उसका हाल जब पूछा
बाकी ठीक है कहकर वह ताना मार जाता था

मदन मोहन सक्सेना

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंधियां अपने उफान पर है
आंधियां अपने उफान पर है
कवि दीपक बवेजा
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*नदी नहीं है केवल गंगा, देवलोक का गान है (गीत)*
*नदी नहीं है केवल गंगा, देवलोक का गान है (गीत)*
Ravi Prakash
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
बस का सफर
बस का सफर
Ms.Ankit Halke jha
।। अछूत ।।
।। अछूत ।।
साहित्य गौरव
यही जीवन है ।
यही जीवन है ।
Rohit yadav
3023.*पूर्णिका*
3023.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा कलाम
मेरा कलाम
Shekhar Chandra Mitra
एक ख़्वाब की सी रही
एक ख़्वाब की सी रही
Dr fauzia Naseem shad
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
My life's situation
My life's situation
नव लेखिका
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
अज़ब सा हाल तेरे मजनू ने बना रक्खा है By Vinit Singh Shayar
अज़ब सा हाल तेरे मजनू ने बना रक्खा है By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
■ उनके लिए...
■ उनके लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
Surinder blackpen
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
स्वप्न सुंदरी तेरा नाम है क्या
स्वप्न सुंदरी तेरा नाम है क्या
आलोक पांडेय
झूठी है यह सम्पदा,
झूठी है यह सम्पदा,
sushil sarna
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
एक छोरी काळती हमेशा जीव बाळती,
प्रेमदास वसु सुरेखा
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
चर्चित हुए हम
चर्चित हुए हम
Dr. Sunita Singh
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
Loading...