Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ..”..जिंदगी दर्द की कहानी है’

=========================
बात मुहब्बत की बतानी है
जिंदगी दर्द की कहानी है

हर रिश्ता बसा किया दिल में
दौलतें ही असल जुबानी है

माफ़ कर दो मुझे… मिरे हमदम
चार ही दिन की…. ज़िंदगानी है

सब कुछ किया करो अपन मन क़ी
क्या भरोसा कि ….कब रवानी है

प्यार नफ़रत हरेक पहलु में
लड़कियां ही यहाँ सियानी हैं

आँधियाँ मंज़िलें थीं मिटाती
मंज़िल उसे ‘ब ‘ को बनानी है
=========================
रजिंदर सिंह छाबड़ा

374 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा नसीब
मेरा नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्यार भरा इतवार
प्यार भरा इतवार
Manju Singh
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विध्न विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
गुम है
गुम है
Punam Pande
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐प्रेम कौतुक-219💐
💐प्रेम कौतुक-219💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
'अशांत' शेखर
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
हदें
हदें
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
Santosh Barmaiya #jay
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
Loading...