Sep 29, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ..”..जिंदगी दर्द की कहानी है’

=========================
बात मुहब्बत की बतानी है
जिंदगी दर्द की कहानी है

हर रिश्ता बसा किया दिल में
दौलतें ही असल जुबानी है

माफ़ कर दो मुझे… मिरे हमदम
चार ही दिन की…. ज़िंदगानी है

सब कुछ किया करो अपन मन क़ी
क्या भरोसा कि ….कब रवानी है

प्यार नफ़रत हरेक पहलु में
लड़कियां ही यहाँ सियानी हैं

आँधियाँ मंज़िलें थीं मिटाती
मंज़िल उसे ‘ब ‘ को बनानी है
=========================
रजिंदर सिंह छाबड़ा

193 Views
You may also like:
पिता
Madhu Sethi
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
पापा
Nitu Sah
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
नई तकदीर
मनोज कर्ण
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H.
धरती की फरियाद
Anamika Singh
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
पिता का सपना
श्री रमण
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
** शरारत **
Dr. Alpa H.
Loading...