Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल ( जिंदगी का सफ़र)

ग़ज़ल ( जिंदगी का सफ़र)

बीती उम्र कुछ इस तरह कि खुद से हम न मिल सके
जिंदगी का ये सफ़र क्यों इस कदर अंजान है

प्यासा पथिक और पास में बहता समुन्द्र देखकर
जिंदगी क्या है मदन , कुछ कुछ हुयी पहचान है

कल तलक लगता था हमको शहर ये जाना हुआ
इक शख्श अब दीखता नहीं तो शहर ये बीरान है

इक दर्द का एहसास हमको हर समय मिलता रहा
ये बक्त की साजिश है या फिर बक्त का एहसान है

गर कहोगें दिन को दिन तो लोग जानेगें गुनाह
अब आज के इस दौर में दिखते नहीं इन्सान है

गैर बनकर पेश आते, बक्त पर अपने ही लोग
अपनो की पहचान करना अब नहीं आसान है

ग़ज़ल ( जिंदगी का ये सफ़र)
मदन मोहन सक्सेना

157 Views
You may also like:
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमनें जब तेरा
Dr fauzia Naseem shad
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
श्री रामनामी दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
*फाइल सबको भरना है (गीतिका)*
Ravi Prakash
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
बगावत का बिगुल
Shekhar Chandra Mitra
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
'अशांत' शेखर
बेवफा
Aditya Raj
तौबा तौबा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घर घर तिरंगा फहराएंगे
Ram Krishan Rastogi
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मत पूछो कोई वो क्या थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लाचार बचपन
Shyam kumar kolare
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
जन्नत -ए - इश्क
Seema 'Tu hai na'
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
अजन्मी बेटी का दर्द !
Anamika Singh
✍️गलत बात है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
सच
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...