Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल)

ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल)

कंक्रीटों के जंगल में नहीं लगता है मन अपना
जमीं भी हो गगन भी हो ऐसा घर बनातें हैं

ना ही रोशनी आये ,ना खुशबु ही बिखर पाये
हालत देखकर घर की पक्षी भी लजातें हैं

दीबारें ही दीवारें नजर आये घरों में क्यों
पड़ोसी से मिले नजरें तो कैसे मुहँ बनाते हैं

मिलने का चलन यारों ना जानें कब से गुम अब है
टी बी और नेट से ही समय अपना बिताते हैं

ना दिल में ही जगह यारों ना घर में ही जगह यारों
भूले से भी मेहमाँ को नहीं घर में टिकाते हैं

अब सन्नाटे के घेरे में ,जरुरत भर ही आबाजें
घर में ,दिल की बात दिल में ही यारों अब दबातें हैं

ग़ज़ल (कंक्रीट के जंगल)
मदन मोहन सक्सेना

149 Views
You may also like:
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
पिता
Buddha Prakash
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
कैसी है ये पीर पराई
VINOD KUMAR CHAUHAN
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संविधान निर्माता को मेरा नमन
Surabhi bharati
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
राम राज्य
Shriyansh Gupta
'सती'
Godambari Negi
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...