Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ग़ज़ल।शिक़ायत अब नही होती।

ग़ज़ल।शिक़ायत अब नही होती ।।

वफ़ा के नाम पर बिल्कुल नफ़ासत अब नही होती ।
कोई दिल तोड़ जाये तो शिकायत अब नही होती ।।

मुझे मालुम है पत्थर दिल बनेगा एक दिन पानी ।
मग़र है दर्द का चस्का कि राहत अब नही होती ।।

मिलेगा एक दिन धोख़ा सभी मासूम चेहरों से ।
छिपी नफ़रत गुमानी है कि चाहत अब नही होती ।।

निगाहों की गुज़ारिश में यहाँ बेदाग़ हर कोई ।
लगाकर तोड़ देते दिल शरारत अब नही होती ।।

सुबह से शाम तक मैंने बहाया था कभी आँसू ।
किसी की चाह में बेसक हिमाक़त अब नही होती ।।

यहाँ आँखों ही आँखों में बसी है रंजिसें हरपल ।
बिक़े या टूट जाये दिल नसीहत अब नही होती ।।

हुआ था ज़ख्म जो रकमिश’ वही नासूर बन उभरा ।
करूँ मैं लाख़ क़ोशिश पर मुहब्बत अब नही होती ।

© राम केश मिश्र

1 Comment · 126 Views
You may also like:
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
धुँध
Rekha Drolia
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सहारा मिल गया होता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
सिर्फ एक भूल जो करती है खबरदार
gurudeenverma198
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️बुनियाद✍️
"अशांत" शेखर
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
My eyes look for you.
Taj Mohammad
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
दर्द।
Taj Mohammad
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...