Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

ग़ज़ल।शिक़ायत अब नही होती।

ग़ज़ल।शिक़ायत अब नही होती ।।

वफ़ा के नाम पर बिल्कुल नफ़ासत अब नही होती ।
कोई दिल तोड़ जाये तो शिकायत अब नही होती ।।

मुझे मालुम है पत्थर दिल बनेगा एक दिन पानी ।
मग़र है दर्द का चस्का कि राहत अब नही होती ।।

मिलेगा एक दिन धोख़ा सभी मासूम चेहरों से ।
छिपी नफ़रत गुमानी है कि चाहत अब नही होती ।।

निगाहों की गुज़ारिश में यहाँ बेदाग़ हर कोई ।
लगाकर तोड़ देते दिल शरारत अब नही होती ।।

सुबह से शाम तक मैंने बहाया था कभी आँसू ।
किसी की चाह में बेसक हिमाक़त अब नही होती ।।

यहाँ आँखों ही आँखों में बसी है रंजिसें हरपल ।
बिक़े या टूट जाये दिल नसीहत अब नही होती ।।

हुआ था ज़ख्म जो रकमिश’ वही नासूर बन उभरा ।
करूँ मैं लाख़ क़ोशिश पर मुहब्बत अब नही होती ।

© राम केश मिश्र

1 Comment · 179 Views
You may also like:
प्रेम की राह पर-59
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
'चाँद गगन में'
Godambari Negi
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल /Arshad Rasool
✍️परछाईया✍️
'अशांत' शेखर
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
एक ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटियाँ
Shailendra Aseem
जाने कहां वो दिन गए फसलें बहार के
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Writing Challenge- सपना (Dream)
Sahityapedia
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
*द्वितीय आ जाती है (गीतिका)*
Ravi Prakash
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
अनमोल है स्वतंत्रता
Kavita Chouhan
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
दशानन
जगदीश शर्मा सहज
हिंदी व डोगरी की चहेती लेखिका पद्मा सचदेव का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज्ञान की खिड़कियां
Shekhar Chandra Mitra
एक गंभीर समस्या भ्रष्टाचारी काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
उस दिन
Alok Saxena
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
Loading...