Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

ग़र तू कहे तो हम सुधर जाये

अपनी वादों से हम मुकर जाये !
ग़र तू कहे तो हम सुधर जाये !!

रोज़ मर मर के जी रहा हूँ मै ,
क्यो कहती नहीं, हम मर जाये ?

तनहा रहने की अब तो आदत है ,
तेरी खुशियों से माँग भर जाये !

तेरी चाहत में जां लुटा दू मै ,
भले झूठा ही प्यार कर जाये !

छोड़ दूँगा तेरी गलियों में आना जाना ,
अब न होगा कोई जो देख् मुझे डर जाये !

प्यार पाते है खुशनशीब यहा ,
तेरी यादो में हम गुजर जाये !

क्यो होता है तू उदास जुगनू ?
तू चमके तो रजनी भी निखर जाये !!

1 Like · 157 Views
You may also like:
बद्दुआ
Harshvardhan "आवारा"
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta ( bloger) Gupta
प्रेमी और प्रेमिका की मोबाइल पर वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
The Magical Darkness
Manisha Manjari
सच कहते हैं, जिम्मेदारियां सोने नहीं देती
Seema 'Tu hai na'
Feel it and see that
Taj Mohammad
ग़ज़ल- होश में आयेगा कौन (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दानवीर सुर्यपुत्र कर्ण
Ravi Yadav
*आजकल भाती है बेटियॉं (गीतिका)*
Ravi Prakash
मानवता के डगर पर
Shivraj Anand
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
खूबसूरत बहुत हैं ये रंगीन दुनिया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं डरती हूं।
Dr.sima
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
अपने किरदार को
Dr fauzia Naseem shad
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
अनमोल है स्वतंत्रता
Kavita Chouhan
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️चेहरा-ए-नक़्श✍️
'अशांत' शेखर
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...