Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

ग़र तू कहे तो हम सुधर जाये

अपनी वादों से हम मुकर जाये !
ग़र तू कहे तो हम सुधर जाये !!

रोज़ मर मर के जी रहा हूँ मै ,
क्यो कहती नहीं, हम मर जाये ?

तनहा रहने की अब तो आदत है ,
तेरी खुशियों से माँग भर जाये !

तेरी चाहत में जां लुटा दू मै ,
भले झूठा ही प्यार कर जाये !

छोड़ दूँगा तेरी गलियों में आना जाना ,
अब न होगा कोई जो देख् मुझे डर जाये !

प्यार पाते है खुशनशीब यहा ,
तेरी यादो में हम गुजर जाये !

क्यो होता है तू उदास जुगनू ?
तू चमके तो रजनी भी निखर जाये !!

1 Like · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
फ़ासला दरमियान
फ़ासला दरमियान
Dr fauzia Naseem shad
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh Manu
✍️दोस्ती ✍️
✍️दोस्ती ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
When compactibility ends, fight beginns
When compactibility ends, fight beginns
Sakshi Tripathi
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
● रूम-पार्टनर
● रूम-पार्टनर
*Author प्रणय प्रभात*
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
श्याम सिंह बिष्ट
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
*भंडारे की पूड़ियॉं, हलवे का मधु स्वाद (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
What is eyes biometric technique
What is eyes biometric technique
Param Himalaya
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
कीजै अनदेखा अहम,
कीजै अनदेखा अहम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-19💐
💐अज्ञात के प्रति-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
जिंदगी एक ख़्वाब सी
जिंदगी एक ख़्वाब सी
डॉ. शिव लहरी
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
Loading...