Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2016 · 1 min read

ख़्वाब लिए जाता हूँ

आज रुखसत होना है तेरी महफ़िल से,
तोहफे में तुझे प्यार दिए जाता हूँ।

मुझे नजराने में अपने आँसू दे दो,
मैं तुम्हे अपनी याद दिए जाता हूँ।

ये वक़्त हमे मिलने नहीं देगा,
चंद रोज बाद तुम भूल जाओगे,
मेरे दिल में एक कली खिलेगी,
जब भी तुम मुस्कुराओगे।

मैं ताकते हुए सूनी आँखों से,
इक गुलाब दिए जाता हूँ।
और तेरी रातों की चांदनी,
तेरी आँखों के फलक से,
ख़्वाब लिए जाता हूँ,,,,
ख़्वाब लिए जाता हूँ,,,,
ख़्वाब लिए जाता हूँ।

Language: Hindi
348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
वफ़ा की परछाईं मेरे दिल में सदा रहेंगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"अनमोल"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*प्रणय प्रभात*
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
ये दिल उनपे हम भी तो हारे हुए हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ସଦାଚାର
ସଦାଚାର
Bidyadhar Mantry
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
2609.पूर्णिका
2609.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
*मोबाइल पर पढ़ते बच्चे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
जेठ सोचता जा रहा, लेकर तपते पाँव।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
Love's Sanctuary
Love's Sanctuary
Vedha Singh
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुखौटे
मुखौटे
Shaily
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...