Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2016 · 1 min read

ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते

ख़िज़ां के रखवाले बाग में बहार आने नहीं देते,
मेरे गुलशन के ख़ार ताजी हवा लाने नहीं देते।

वो एक नज़र देख लेते मेरे बिगड़े हालात को,
तो बदलते मौसम गमों के बादल छाने नहीं देते।

काश उनके पास वक़्त होता आँखों में देखने का,
तो मेरे अश्क उन्हें बेरुखी से जाने नहीं देते।

अँधेरा बहुत है तुम्हारे दिल की बस्ती में,
क्यों दिल में कोई जोत जलाने नहीं देते।

तुम्हें पाने का जुनून दिल पर सवार तो है मगर,
तुम ख़ुद को खोने नहीं देते, हमें पाने नहीं देते।

सिलसिला थम जाएगा इश्क़ से नाराजगी का,
नफ़रत की ये दीवार क्यों गिराने नहीं देते।

हमारी बोलचाल इस हद तक बंद है,
दिल से दिल को भी बुलाने नहीं देते।

बुनियाद इस घर की खोखली हो चुकी है,
तुम यह जर्जर मकान क्यों गिराने नहीं देते।

326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विनोद कुमार दवे
View all
You may also like:
गिव मी सम सन शाइन
गिव मी सम सन शाइन
Shekhar Chandra Mitra
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Learn lesson and enjoy every moment, your past is just a cha
Nupur Pathak
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
उन यादों को
उन यादों को
Dr fauzia Naseem shad
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
# शुभ - संध्या .......
# शुभ - संध्या .......
Chinta netam " मन "
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नया सवेरा
नया सवेरा
नन्दलाल सुथार "राही"
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
" रहना तुम्हारे सँग "
DrLakshman Jha Parimal
2612.पूर्णिका
2612.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"दस ढीठों ने ताक़त दे दी,
*Author प्रणय प्रभात*
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
*बड़े ही भाग्य से कोई, किसी को प्यार मिलता है (मुक्तक)*
*बड़े ही भाग्य से कोई, किसी को प्यार मिलता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
राम
राम
umesh mehra
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विजेता
विजेता
Paras Nath Jha
कहीं भी जाइए
कहीं भी जाइए
Ranjana Verma
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Surinder blackpen
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...