Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2021 · 1 min read

ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच

ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
फूल हैं गोया ख़ार बदामाँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच

किसने है दीवार उठाई आज हमारे आँगन में
किसने किया इस घर को बयाबाँ, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच

अपने ही हाथों से जिसने ख़िरमन अपना ख़ाक किया
क्यों इतना मजबूर है दहक़ाँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच

नाज़ो अदा ये शोख़ नज़ाकत दिल को हैं मरग़ूब मगर
फिर क्यों है ये चश्म हिरासाँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच

अपने – अपने अहद में आसी थे दोनो मग़रूर बहुत
आज हैं दोनो ख़ुद पे पशेमाँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
______________________
सरफ़राज़ अहमद आसी यूसुफपुरी

206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
Satish Srijan
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
Dr Nisha nandini Bhartiya
मैं सफ़र मे हूं
मैं सफ़र मे हूं
Shashank Mishra
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
■ प्रभात वंदन....
■ प्रभात वंदन....
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
कोई भोली समझता है
कोई भोली समझता है
VINOD CHAUHAN
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
एक बार नहीं, हर बार मैं
एक बार नहीं, हर बार मैं
gurudeenverma198
24/01.*प्रगीत*
24/01.*प्रगीत*
Dr.Khedu Bharti
बादल गरजते और बरसते हैं
बादल गरजते और बरसते हैं
Neeraj Agarwal
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
मै पत्नी के प्रेम में रहता हूं
भरत कुमार सोलंकी
मेरी कलम
मेरी कलम
Shekhar Chandra Mitra
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
"तू रंगरेज बड़ा मनमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
Loading...