Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

ह्रदय की स्थिति की

जीवन से जैसे कोई
जब रूठने लगे ।
धैर्य जब साथ न दे
मन टूटने लगे ।।

हृदय की स्थिति की
पीड़ा न पूछिये ।
हाथों से डोरी प्रीत की
जब छूटने लगे ।।

प्रतीत होंगी तुझको
तुझमें भी मैं कहीं ।
मुझको मेरी तरह से
जो तू सोचने लगे ।।

जीवन में मैं पुनः
न स्मरण करूं तुझे।
बस एक विचार से ही
मन डूबने लगे ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
वक़्त की पहचान🙏
वक़्त की पहचान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*1977 में दो बार दिल्ली की राजनीतिक यात्राएँ: सुनहरी यादें*
*1977 में दो बार दिल्ली की राजनीतिक यात्राएँ: सुनहरी यादें*
Ravi Prakash
"पवित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शोहरत
शोहरत
Neeraj Agarwal
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
*
*"राम नाम रूपी नवरत्न माला स्तुति"
Shashi kala vyas
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सोच समझ कर
सोच समझ कर
पूर्वार्थ
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
जितना आसान होता है
जितना आसान होता है
Harminder Kaur
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नाना भांति के मंच सजे हैं,
नाना भांति के मंच सजे हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
दूर क्षितिज के पार
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
कभी कम न हो
कभी कम न हो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...