Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

हौसले के बिना उड़ान में क्या

हौसले के बिना उड़ान में क्या
देखना फिर है आसमान में क्या

हर खुशी ज़िंदगी की तुमसे है
है तुम्हारे सिवा जहान में क्या

सच की तस्वीर खींच कर रख दी
और कहते भी हम बयान में क्या

खौफ में भूल ही गए हम तो
लिख के आए हैं इम्तिहान में क्या

सोचना होगा एक दिन तो ये
करना है उम्र के ढलान में क्या

जो महल जैसा हो मगर खाली
रहना ऐसे किसी मकान में क्या

ज़िस्म ज़ख्मी है दिल बचा अब तक
तीर कोई नहीं कमान में क्या

धर्म के नाम पर करो झगड़े
ऐसा लिक्खा है संविधान में क्या

‘अर्चना’ कुछ तो बोलिए खुलकर
कोई ताला लगा ज़ुबान में क्या

14.02.2024
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
6 Likes · 5 Comments · 1617 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
दुष्यन्त 'बाबा'
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
No battles
No battles
Dhriti Mishra
रमेशराज के समसामयिक गीत
रमेशराज के समसामयिक गीत
कवि रमेशराज
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
कानून?
कानून?
nagarsumit326
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
3062.*पूर्णिका*
3062.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
कभी-कभी एक छोटी कोशिश भी
Anil Mishra Prahari
"बदबू"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
निर्मोही हो तुम
निर्मोही हो तुम
A🇨🇭maanush
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
शेखर सिंह
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
Loading...