Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2022 · 1 min read

हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़

हो साहित्यिक गूँज का, कुछ ऐसा आगाज़
जैसे सुर अरु ताल का, होता इक अंदाज़
होता इक अंदाज, उतर जाता है दिल में
और बढ़ाकर शान, चहकता है महफ़िल में
कहे ‘अर्चना’ बात, मिले आनन्द सात्विक
होता लेखन उच्च, सोच जब हो साहित्यिक
24-11-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

3 Likes · 4 Comments · 277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
कागज को तलवार बनाना फनकारों ने छोड़ दिया है ।
कागज को तलवार बनाना फनकारों ने छोड़ दिया है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
कुछ बातें बस बाते होती है
कुछ बातें बस बाते होती है
पूर्वार्थ
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
Where have you gone
Where have you gone
VINOD CHAUHAN
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
यह कैसा पागलपन?
यह कैसा पागलपन?
Dr. Kishan tandon kranti
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
न जाने क्या ज़माना चाहता है
न जाने क्या ज़माना चाहता है
Dr. Alpana Suhasini
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
2990.*पूर्णिका*
2990.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
दाता
दाता
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
भामाशाह
भामाशाह
Dr Archana Gupta
*झाड़ू (बाल कविता)*
*झाड़ू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
प्यार के मायने बदल गयें हैं
प्यार के मायने बदल गयें हैं
SHAMA PARVEEN
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
**नेकी की राह पर तू चल सदा**
**नेकी की राह पर तू चल सदा**
Kavita Chouhan
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नहीं आऊँगा तेरी दर पे, मैं आज के बाद
नहीं आऊँगा तेरी दर पे, मैं आज के बाद
gurudeenverma198
Loading...