Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2016 · 1 min read

हो रहा है

गीतिका
*
छलावा भी उसे ही हो रहा है
भरोसे भाग्य के जो सो रहा है
*
बहुत उम्मीद थी जिससे लगाई
क्यों जाता दूर मुझसे वो रहा है
*
सभी दुख सह चुका है दिल जहाँ के
कहाँ कुछ और सहने को रहा है
*
कभी विश्वास के काबिल नहीं वो
बदलता बात अपनी जो रहा है
*
उसी के पाँव में कंटक चुभे हैं
सदा जो अन्य के पथ बो रहा है
*
बदलते दौर में हर आदमी पर
बढ़ा है बोझ जिसको ढो रहा है
*
*************************
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
थक गये चौकीदार
थक गये चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
कामचोर (नील पदम् के दोहे)
कामचोर (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
यह जिंदगी का सवाल है
यह जिंदगी का सवाल है
gurudeenverma198
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
यहा हर इंसान दो चहरे लिए होता है,
Happy sunshine Soni
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
2577.पूर्णिका
2577.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
-शेखर सिंह ✍️
-शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
عبادت کون کرتا ہے
عبادت کون کرتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
■ सगी तो खुशियां भी नहीं।
■ सगी तो खुशियां भी नहीं।
*प्रणय प्रभात*
अहोभाग्य
अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
पिता
पिता
Kanchan Khanna
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
Loading...