Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

होली

✍️ होली __
आज लगे हर लड़की राधा,कान्हा निकले टोली में।
थोड़ी मस्ती थोड़ी शरारत,होगी ठिठोली होली में।

चौक चौराहे गली मोहल्ले, खूब सजेंगे होली में।
होलिका का होगा दहन, हरिभक्त बचेंगे होली में।

दादी संग मम्मी,चाची, पकवान बनाते होली में।
आंगन में सब हुए इकट्ठे,फिर कीच मचाते होली में।

नीले, पीले, लाल, गुलाबी, फाग उड़ेगा होली में।
बड़ेबूढ़े बनेंगे बच्चे,गलियों में शोर मचेगा होली में।

कहीं पे सजनी कहती,साजन घर आजाना होली में।
प्यार के वादे अपने इरादे, नहीं बिसराना होली में।

भूली बिसरी कई कहानी,याद करेंगे होली में।
कोरेमन पर खुशियों वाली/भर पिचकारी, रंग रंगेंगे होली में।

रूठे टूटे,छूटे रिश्ते,मित्रों संग त्यौहार मनाएं होली में।
अबीर,गुलाल संग,गले मिलेंगे, प्यार लुटाएं होली में।
___ मनु वाशिष्ठ

Language: Hindi
325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
यादों के तटबंध ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
When we constantly search outside of ourselves for fulfillme
Manisha Manjari
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐Prodigy love-2💐
💐Prodigy love-2💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अगर तोहफ़ा देने से मुहब्बत
अगर तोहफ़ा देने से मुहब्बत
shabina. Naaz
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
धूम मची चहुँ ओर है, होली का हुड़दंग ।
Arvind trivedi
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*Author प्रणय प्रभात*
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
आचार संहिता लगते-लगते रह गई
आचार संहिता लगते-लगते रह गई
Ravi Prakash
नारी....एक सच
नारी....एक सच
Neeraj Agarwal
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...