Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 20, 2019 · 1 min read

होली -रंगों का त्योहार

रंगों को मज़हब का नाम मत दो ,
नफरतों का यू तुम पैग़ाम मत दो ।
हम एक है हमें एक रंग में रंगने दो ,
ये भेदभाव का हमें कोई काम मत दो ।

आज इस रंगों को गालों पर लगा भी दो ,
आपसी मतभेदों को तुम भगा भी दो ।
मत पड़ना कभी सियासत में तुम कभी ।
जो सो रहा है अब उसे जगा भी दो ।

रंगों की इस दुनिया में ख़ुद को रंग भी दो ,
जो नही है अब तक साथ उसके संग भी दो ।
गुलाल इस कदर उड़ाओ की इश्क़ हो जाये
इश्क़ के रंगों में थोड़ा तुम उमंग भी दो ।

तुम उसके गालों को भी आज लाल कर दो ,
हर एक रंग को इस तरह मिलाओ की गुलाल कर दो ।
नही बच सकते आज इस मोहब्बत के रंगों से
इन रंगों के पर्व को ख़ुद में बेमिसाल कर दो ।

-हसीब अनवर

4 Likes · 2 Comments · 398 Views
You may also like:
✍️मैं परिंदा...!✍️
'अशांत' शेखर
एक पत्र पुराने मित्रों के नाम
Ram Krishan Rastogi
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
✍️दिशाभूल✍️
'अशांत' शेखर
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
वक्त सबको देता है मौका
Anamika Singh
शिव और सावन
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
पैसा
Kanchan Khanna
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
बस एक ही भूख
DESH RAJ
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शेखर जी आपके लिए कुछ अल्फाज़।
Taj Mohammad
✍️✍️वहम✍️✍️
'अशांत' शेखर
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...