Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2019 · 1 min read

होली -रंगों का त्योहार

रंगों को मज़हब का नाम मत दो ,
नफरतों का यू तुम पैग़ाम मत दो ।
हम एक है हमें एक रंग में रंगने दो ,
ये भेदभाव का हमें कोई काम मत दो ।

आज इस रंगों को गालों पर लगा भी दो ,
आपसी मतभेदों को तुम भगा भी दो ।
मत पड़ना कभी सियासत में तुम कभी ।
जो सो रहा है अब उसे जगा भी दो ।

रंगों की इस दुनिया में ख़ुद को रंग भी दो ,
जो नही है अब तक साथ उसके संग भी दो ।
गुलाल इस कदर उड़ाओ की इश्क़ हो जाये
इश्क़ के रंगों में थोड़ा तुम उमंग भी दो ।

तुम उसके गालों को भी आज लाल कर दो ,
हर एक रंग को इस तरह मिलाओ की गुलाल कर दो ।
नही बच सकते आज इस मोहब्बत के रंगों से
इन रंगों के पर्व को ख़ुद में बेमिसाल कर दो ।

-हसीब अनवर

4 Likes · 2 Comments · 561 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*Author प्रणय प्रभात*
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
न चाहिए
न चाहिए
Divya Mishra
3237.*पूर्णिका*
3237.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
अपने  ही  हाथों  से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
Ashok deep
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
दरदू
दरदू
Neeraj Agarwal
समर कैम्प (बाल कविता )
समर कैम्प (बाल कविता )
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-407💐
💐प्रेम कौतुक-407💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
गरीब और बुलडोजर
गरीब और बुलडोजर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...