Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2017 · 1 min read

होली ये ख़ुशनुमा लम्हो को फिर सजाने का मौसम है..

पलाश के फूलों के महकने का मौसम है..
रंगो के संग खुशियों से मिलने का मौसम है..
रूठो के अपनेपन में लौट आने का मौसम है..
पुरानी गलतफ़हमियों को मिटाने का मौसम है..
रुंधे गले से आपस में गले मिलने का मौसम है..
हर्ष का शांति का प्यार का अपनत्व का मौसम है..
सब कुछ भूल गैरो को भी अपने बनाने का मौसम है..
बुरा न मान दिल की बात जुबां पर लाने का मौसम है..
होली ये ख़ुशनुमा लम्हो को फिर सजाने का मौसम है..

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी “विकल”

(आने वाले रंगों के पर्व अपनों से फिर मिलने के पर्व होलिका उत्सव की सभी को हार्दिक शुभकामनायें…??)

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Mana ki mohabbat , aduri nhi hoti
Sakshi Tripathi
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
विनती
विनती
Kanchan Khanna
घे वेध भविष्याचा ,
घे वेध भविष्याचा ,
Mr.Aksharjeet
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
ग़ज़ल/नज़्म - दिल में ये हलचलें और है शोर कैसा
अनिल कुमार
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
Anil Mishra Prahari
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
कल पहली बार पता चला कि
कल पहली बार पता चला कि
*Author प्रणय प्रभात*
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
मंदिर नहीं, अस्पताल चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
होली
होली
Dr. Kishan Karigar
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
वृक्ष धरा की धरोहर है
वृक्ष धरा की धरोहर है
Neeraj Agarwal
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
Loading...