Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

होली गीत

होली आई कान्हा मोहे रंग लगा दे।
लाल न भाये, रंग पीला न भाये,
श्याम रंग अंग – अंग डुबा दे।
होली आई कान्हा…..

दूध न भाये, मोहे दही न भाये,
माखन मिश्री आज खिला दे ।
होली आई कान्हा ……

ढोल – मृदंग की थाप न चाहूँ ,
धुन वंशी की मधुर सुना दे ।
होली आई कान्हा ….

चरण-कमल तोरे विनती इतनी,
भवसागर मोहे पार लगा दे ।
होली आई कान्हा …..

रचनाकार : कंचन खन्ना, मुरादाबाद,
(उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार : सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक : १०.०३.२०२०.

Language: Hindi
Tag: गीत
185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
~
~"मैं श्रेष्ठ हूँ"~ यह आत्मविश्वास है... और
Radhakishan R. Mundhra
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
हमारा फ़र्ज
हमारा फ़र्ज
Rajni kapoor
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*Author प्रणय प्रभात*
समय की कविता
समय की कविता
Vansh Agarwal
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
माँ नहीं मेरी
माँ नहीं मेरी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
Loading...