Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

होली की चौपाल

बंदर के घर लगी हुई थी,
होली की चौपाल,
सभी जानवर मस्ती में थे,
उड़ने लगा गुलाल!

ऊंचे स्वर में आज गधे ने,
गाई लम्बी फाग।
भालू दादा ढोलक लेकर,
मिला रहे थे राग।
नहीं किसी का सुर मिल पाया,
मिली न कोई ताल!
बंदर के घर. . .

तभी वहाँ गुब्बारे लेकर,
आया एक सियार।
बोला सबको बहुत मुबारक,
होली का त्योहार।
आओ देखो गुब्बारों में,
हम लाये हैं माल!
बंदर के घर. . .

देखा तो इतने में भैया,
सक्रिय हुआ सियार।
फिर सबको गुब्बारे मारे,
कर डाली बौछार।
सबके चेहरे रंगे हुए थे,
काले, पीले, लाल!
भगदड़ चारों ओर मच गयी,
खतम हुई चौपाल!!

Language: Hindi
465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2819. *पूर्णिका*
2819. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
Ravi Prakash
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
ज़िंदगी लगती ग़ज़ल सी प्यार में
ज़िंदगी लगती ग़ज़ल सी प्यार में
डॉक्टर रागिनी
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
DrLakshman Jha Parimal
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
वो लोग....
वो लोग....
Sapna K S
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
#लघुकथा / #विरक्त
#लघुकथा / #विरक्त
*प्रणय प्रभात*
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
हमें क़िस्मत ने
हमें क़िस्मत ने
Dr fauzia Naseem shad
पता नहीं किसने
पता नहीं किसने
Anil Mishra Prahari
Pyari dosti
Pyari dosti
Samar babu
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
कुदरत
कुदरत
manisha
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
पाने को गुरु की कृपा
पाने को गुरु की कृपा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
माँ ही हैं संसार
माँ ही हैं संसार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...