Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

!!! होली आई है !!!

आओ खेलें रंग से, होली आई द्वार ।
रंगो का यह पर्व है, रंगीला त्योहार।।

नीले पीले रंग से, रंगो उसके गाल।
बच पाए कोई नहीं, ऐसा करो धमाल।।

पकड़ो पकड़ो वो गया, ऐसा आए शोर।
रंगीन हुआ गांव का, देखो अब हर छोर।।

जैसे जैसे दिन चढ़ा, उड़ता खूब गुलाल।
जिसको देखो वो हुआ, रंगो से फिर लाल।।

दुश्मन भी साथी बने, ऐसा है यह पर्व।
अपने हर त्यौहार पर, हम सबको है गर्व।।

Language: Hindi
2 Likes · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
Midnight success
Midnight success
Bidyadhar Mantry
शिकवा
शिकवा
अखिलेश 'अखिल'
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
18)”योद्धा”
18)”योद्धा”
Sapna Arora
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
महोब्बत के नशे मे उन्हें हमने खुदा कह डाला
शेखर सिंह
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आज फ़िर एक
आज फ़िर एक
हिमांशु Kulshrestha
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
😊गज़ब के लोग😊
😊गज़ब के लोग😊
*प्रणय प्रभात*
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी भर की कहानी यही है
जिंदगी भर की कहानी यही है
Shweta Soni
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
काँटों ने हौले से चुभती बात कही
Atul "Krishn"
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
Loading...