Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

होने नहीं दूंगा साथी

मैं होने नहीं दूंगा साथी, किसी और का तुमको।
मैं बनने नहीं दूंगा ख्वाब, किसी और का तुमको।।
मैं होने नहीं दूंगा साथी—————-।।

मुझको लेना है तुमसे, बीते हर पल का हिसाब।
मेरे दिल से क्यों खेली, चाहिए इसका जवाब।।
मैं बसाने नहीं दूंगा घर, किसी और का तुमको।
मैं होने नहीं दूंगा साथी—————।।

सिर्फ मुझपे ही क्यों लगाया, यह इल्जाम तुमने।
जबकि मुझको लगाया था, अपने अंग भी तुमने।।
मैं लगाने नहीं दूंगा मेहन्दी, किसी और की तुमको।
मैं होने नहीं दूंगा साथी————–।।

चाहे खामोश हूँ मैं, खत्म जज्बा हुआ नहीं है वह।
एक दिन फिर से उठेगा, चिंगारी लिये तूफान वह।।
मैं जीने नहीं दूंगा संग में, किसी और के तुमको।
मैं होने नहीं दूंगा साथी ———————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
कुदरत
कुदरत
manisha
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
दुष्यन्त 'बाबा'
ए जिंदगी….
ए जिंदगी….
Dr Manju Saini
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
#हृदय_दिवस_पर
#हृदय_दिवस_पर
*Author प्रणय प्रभात*
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
पहले पता है चले की अपना कोन है....
पहले पता है चले की अपना कोन है....
कवि दीपक बवेजा
💐प्रेम कौतुक-308💐
💐प्रेम कौतुक-308💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*नल से जल की योजना, फैले इतनी दूर (कुंडलिया)*
*नल से जल की योजना, फैले इतनी दूर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
मेरी जिंदगी भी तुम हो,मेरी बंदगी भी तुम हो
कृष्णकांत गुर्जर
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काश़ वो वक़्त लौट कर
काश़ वो वक़्त लौट कर
Dr fauzia Naseem shad
सूरज आया संदेशा लाया
सूरज आया संदेशा लाया
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ
माँ
Arvina
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
बेटी को पंख के साथ डंक भी दो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...