Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 2 min read

हॉस्पिटल मैनेजमेंट

हॉस्पिटल मैनेजमेंट
“सर, जब आप क्लास में हमें पढ़ाया करते थे, तब आपका एक दूसरा ही रूप देखा करता था, यहाँ हॉस्पिटल में आप एकदम दूसरे व्यक्तित्व के स्वामी लगते हैं।” जूनियर डॉक्टर ने अपने सीनियर डॉक्टर से कहा।
“बेटा, कॉलेज में मैं एक टीचर के रूप में अपनी सेवाएँ देता हूँ और यहाँ एक प्राइवेट हॉस्पिटल में डॉक्टर होने के साथ-साथ मैनेजमेंट भी देखता हूँ।” सीनियर डॉक्टर ने कहा।
“जी सर, वही देख कर मन में जिज्ञासा हुई, तो आपसे पूछ लिया।” जूनियर डॉक्टर ने कहा।
“यही सब तुम्हें भी सीखनी है डॉक्टर। मेडिकल कॉलेज में बहुत सीख ली थ्योरीटिकल नॉलेज। अब प्रैक्टिकल नॉलेज भी सीखो। वही जीवनभर काम आएगा।” उसकी पीठ थपथपाते हुए सीनियर डॉक्टर ने कहा।
“जी सर। आप जैसा आदेश करें।” जूनियर ने कहा।
“देखो पेसेंट या उसके फैमिली मेंबर्स से हमेशा इलाज का खर्च बताते समय टेस्ट, दवाई और प्राईवेट रूम चार्ज की बात एक साथ जोड़कर नहीं, अलग-अलग करके बताया करो, ताकि उन्हें बहुत अधिक न लगे। ऑपरेशन की पेमेंट भी एकमुश्त नहीं, धीरे-धीरे किश्तों में लो।” सीनियर डॉक्टर ने समझाया।
“यस सर।” जूनियर डॉक्टर ने कहा।
“ऑपरेशन के थोड़ी देर पहले ही जरूरी-गैरजरूरी दवाइयों की लंबी-चौड़ी लिस्ट देकर ढेर सारी दवाइयाँ मंगवा लो। फिर उसमें से 10-15% प्रतिशत दवाई ‘बच गई हैं, इन्हें मेडिकल स्टोर में लौटा दो, पैसे रिफंड हो जाएँगे’ कहकर उनका दिल जीत लो।” आज सीनियर डॉक्टर मानो अपने सुदीर्घ जीवनानुभव का निचोड़ सामने रखने की ठान लिए थे।
“वाह, क्या मैनेजमेंट ट्रीक है सर।” जूनियर डॉक्टर सीनियर डॉक्टर की प्रतिभा का कायल हो गया था।
“और हाँ, पेसेंट को डिस्चार्ज तभी करना, जब हॉस्पिटल में कोई अगला पेसेंट आ जाए। समय-समय पर हॉस्पिटल मैनेजमेंट के मेडिकल स्टोर की स्टाक का भी चैक करते रहना।” सीनियर डॉक्टर समझाते हुए बोले।
“वो क्यों सर ?” उसने जिज्ञासावश पूछ लिया।
“वो इसलिए कि जिन दवाओं की एक्स्पायरी डेट खत्म होने की कगार पर हों, उनका अधिकाधिक उपयोग सुनिश्चित हो सके, ताकि उन्हें फेंकना न पड़े। जितनी तुम मैनेजमेंट की केयर करोगे, उतनी ही मैनेजमेंट भी तुम्हारी केयर करेगी। समझ गए मेरी बात।” सीनियर डॉक्टर बोले।
“यस सर।” जूनियर बोला और अपने काम पर लग गया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायगढ़, छत्तीसगढ़

394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
मोह माया ये ज़िंदगी सब फ़ँस गए इसके जाल में !
Neelam Chaudhary
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
ऑन लाइन पेमेंट
ऑन लाइन पेमेंट
Satish Srijan
*सेवा सबकी ही करी, माँ ने जब तक जान (कुंडलिया)*
*सेवा सबकी ही करी, माँ ने जब तक जान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
Seema gupta,Alwar
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
" आशिकी "
Dr. Kishan tandon kranti
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
*ऐसा स्वदेश है मेरा*
Harminder Kaur
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
ज़िंदगी इतनी मुश्किल भी नहीं
Dheerja Sharma
Loading...