Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

है हिन्दी उत्पत्ति की,

है हिन्दी उत्पत्ति की,
मूल शौर* अप’भ्रंश
पाली, प्राकृत बाद में,
संस्कृत पहला अंश
—महावीर उत्तरांचली

___________
*शौर—शौरसेनी यानि राजस्थानी (मारवाड़ी, मालवी, मेवाती, जयपुरी), पहाड़ी हिंदी (कुमाऊँनी, गढ़वाली), पश्चिमी हिंदी (ब्रजभाषा, कन्नौजी, खड़ी बोली, हरियाणवी, दक्खिनी)।

1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
बुला लो
बुला लो
Dr.Pratibha Prakash
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
शेखर सिंह
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Kumud Srivastava
गजब गांव
गजब गांव
Sanjay ' शून्य'
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
Neeraj Agarwal
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
छप्पर की कुटिया बस मकान बन गई, बोल, चाल, भाषा की वही रवानी है
Anand Kumar
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
"तासीर"
Dr. Kishan tandon kranti
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
इश्क का इंसाफ़।
इश्क का इंसाफ़।
Taj Mohammad
और मौन कहीं खो जाता है
और मौन कहीं खो जाता है
Atul "Krishn"
फ़ासला गर
फ़ासला गर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...