Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2022 · 1 min read

है स्वर्ग यहीं

जो कहना चाहते हो
बेझिझक कहिए
दिल के गुबार बाहर
निकालते रहिए

क्या मिल जायेगा यूं
घुट घुटकर जीने में
कहकर अपने दिल की बात
बस सुकून से रहिए

है स्वर्ग तो यहीं पर
स्वर्ग की सीढ़ी क्यों ढूंढना
क्यों भूल गया है तू
वो मां का आंचल ढूंढना

स्वर्ग में ऐसी अनुभूति कहां
मिलती खेलकर मिट्टी में जो
रह जाओगे वंचित उन रंगों से
दिखते दिलों के मिलने से जो

आसान राहों पर चलना अब
तेरी आदत रही नहीं
जाओगे स्वर्ग तो वहां तुम्हारे लिए
रहेगी कोई चुनौती नहीं

राह में जबतक न हो उतार चढ़ाव
नीरस हो जाता है वो सफ़र
स्वर्ग मिल जायेगा तुम्हें यहीं पर
ढूंढ लो एक प्यारा सा हमसफ़र

प्रभु भी आते हैं स्वर्ग से धरा पर
क्योंकि राधा का प्रेम मिलता है सिर्फ यहीं
रहते होंगे देवता स्वर्ग में आनंद से
लेकिन मां का प्यार मिलता है सिर्फ़ यहीं।

Language: Hindi
11 Likes · 1 Comment · 1021 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
"जीवन की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
सुकून ए दिल का वह मंज़र नहीं होने देते। जिसकी ख्वाहिश है, मयस्सर नहीं होने देते।।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
*** अरमान....!!! ***
*** अरमान....!!! ***
VEDANTA PATEL
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शिक्षा मे भले ही पीछे हो भारत
शेखर सिंह
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*प्रणय प्रभात*
राम राम
राम राम
Sonit Parjapati
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
मुझको उनसे क्या मतलब है
मुझको उनसे क्या मतलब है
gurudeenverma198
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
🌹मेरे जज़्बात, मेरे अल्फ़ाज़🌹
Dr Shweta sood
जितनी मेहनत
जितनी मेहनत
Shweta Soni
Loading...