Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

है मुश्किल दौर सूखी,

है मुश्किल दौर सूखी,
रोटियाँ भी दूर हैं हमसे
मज़े से तुम कभी काजू,
कभी किशमिश चबाते हो

महावीर उत्तरांचली

1 Like · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
लोग कहते हैं कि प्यार अँधा होता है।
आनंद प्रवीण
🌹खूबसूरती महज....
🌹खूबसूरती महज....
Dr .Shweta sood 'Madhu'
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
"कारण"
Dr. Kishan tandon kranti
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
आर.एस. 'प्रीतम'
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
विष का कलश लिये धन्वन्तरि
कवि रमेशराज
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
*मेरे साथ तुम हो*
*मेरे साथ तुम हो*
Shashi kala vyas
सब्र करते करते
सब्र करते करते
Surinder blackpen
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
सलीका शब्दों में नहीं
सलीका शब्दों में नहीं
उमेश बैरवा
तनहाई
तनहाई
Sanjay ' शून्य'
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
"जगह-जगह पर भीड हो रही है ll
पूर्वार्थ
3121.*पूर्णिका*
3121.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
Loading...