Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2023 · 1 min read

हैवानियत

घूम रहे हैं राक्षस
साधु के वेश में!
आया है राम राज
हमारे देश में!
हो रहा है बेटियों के
साथ जो यहां!
उसकी कोई मिसाल
नहीं परदेश में!
#मणिपुर_में_हैवानियत #फूलन_देवी
#PhoolanDevi #इंसाफ #न्याय
#ManipurHorror #बेटी_बचाओ
#हल्लाबोल #औरत #नारी #महिला
#स्त्री #सियासत #हत्या #बलात्कार

Language: Hindi
285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कथनी और करनी में अंतर
कथनी और करनी में अंतर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
शेखर सिंह
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*दो दिन का जीवन रहा, दो दिन का संयोग (कुंडलिया)*
*दो दिन का जीवन रहा, दो दिन का संयोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
Buddha Prakash
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
"संगठन परिवार है" एक जुमला या झूठ है। संगठन परिवार कभी नहीं
Sanjay ' शून्य'
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
कोई तो मेरा अपना होता
कोई तो मेरा अपना होता
Juhi Grover
गुजरा ज़माना
गुजरा ज़माना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
सत्य और सत्ता
सत्य और सत्ता
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...