Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2021 · 1 min read

हैप्पी वेलेंटाइन डे ️

मुबारक हो तुमको आज का यह दिन
आंखों की खुशी होठों का प्यार हो तुम
मेरी बदली हुई जिंदगी का खुला गुलाब हो तुम??
हर पल तेरी यादा आती है, आंखों को आंसूओ से भर जाती है।
फिर भी तेरी यादों में ही खुश रह लेती हूं।
तुझे देखने को हर पल दिल ? बेचैन सा रहता है।
लेकिन ख्वाबों में देख तुझे खुद को बहला लेती हूं।
तुझसे दूर जाने का गम है मुझे
लेकिन फिर भी तेरी यादों के सहारे रह लेती हूं में
तेरा प्यार जो मेरी ताकत है वो मुझे हमेशा तेरे साथ होने का एहसास दिलाता है।
तेरा एहसास ही है जो मुझे सबसे खास बनाता है
कहने को तो कभी सोचा नहीं था कि मुझे भी प्यार होगा
पर तुझसे मिलकर लगा मुझे शायद ही कोई तुझसे प्यारा होगा
तेरे साथ बिताया हर लम्हा अपना सा लगता है
तूने इतनी खुशियां दी
मानो एक सपना सा लगता है।
तू ही है जिसे मैंने इतना चाहा वरना हर कोई भी बेगाना सा लगता है।
तेरा वह मासूम सा चेहरा जो मेरे दिल को बेचैन स करता है
और तेरी वह नशीली आंखों से देखना जो मेरे दिल को तार तार करता है।
मुबारक हो तुमको आज का यह दिन ?
हैप्पी वैलेंटाइन डे?????

Language: Hindi
8 Likes · 10 Comments · 331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
surenderpal vaidya
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
Ravi Prakash
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
प्रकृति का गुलदस्ता
प्रकृति का गुलदस्ता
Madhu Shah
हर खतरे से पुत्र को,
हर खतरे से पुत्र को,
sushil sarna
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
श्रीराम अयोध्या में पुनर्स्थापित हो रहे हैं, क्या खोई हुई मर
Sanjay ' शून्य'
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
2498.पूर्णिका
2498.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
"मुझे देखकर फूलों ने"
Dr. Kishan tandon kranti
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
बुजुर्गो को हल्के में लेना छोड़ दें वो तो आपकी आँखों की भाषा
DrLakshman Jha Parimal
Loading...