Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2019 · 1 min read

*हैदराबाद एनकाउंटर*

भागने की सोच रहे थे बन के वो परिंदे ।
मारे गए एनकांउटर में सारे कातिल दरिंदे ।।

पुलिस को वो हैवान पहनाने चले थे टोपी ।
ख़ुद के ही हाथों ख़ुद की क़ब्र उन्होंने खोदी ।।

सच्च में इंसाफ मिला बेटी को इस बार ।
रहना चाहिए ये सिलसिला यूँ ही बरकार ।।

तारीफ इस कदम की हो रही चारों ओर ।
हवानों की मौत से जैसे खिल गई हो भोर ।।

अब सच्चा इंसाफ मिला भारत की इस बेटी को ।
घटना स्थल एनकाउंटर में ही मरे सब आरोपी जो ।।

वहसी दरिंदों की मौत पर मनाई जा रही ख़ुशियाँ ।
पुलिस वालों को मिठाई आज खिला रही बेटियाँ ।।

मिली मौत की सौगात उन्हें जो बने हुए थे शूल ।
इसी ख़ुशी में पुलिस वालों पर बरसाए गए फूल ।।

नित बढ़ रहा था महिलाओं में असुरक्षा का ख़ौप ।
मार कर दरिंदों को इंसाफ का बीज दिया है रोप ।।

बेशक़ मिला नहीं निर्भया को आज तक इंसाफ ।
उम्मीद जगी हैवानों का अब कचरा होगा साफ ।।

कानून की ताकत दिखाई दरिंदगी करने वालों को ।
सब बेटियों का सल्यूट हैदराबाद पुलिस वालों को ।।

Language: Hindi
12 Likes · 6 Comments · 1369 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
"" *रिश्ते* ""
सुनीलानंद महंत
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
हरवंश हृदय
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
तमन्ना उसे प्यार से जीत लाना।
सत्य कुमार प्रेमी
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
आज के समय में शादियां सिर्फ एक दिखावा बन गई हैं। लोग शादी को
पूर्वार्थ
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
कारगिल युद्ध के समय की कविता
कारगिल युद्ध के समय की कविता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
लेंस प्रत्योपण भी सिर्फ़
लेंस प्रत्योपण भी सिर्फ़
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"इतनी ही जिन्दगी बची"
Dr. Kishan tandon kranti
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...