Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

हे राम हृदय में आ जाओ

हे राम तुम्हारा निर्वासन तो
मात्र तुम्हारे भवन से था,
किन्तु तुम्हारी जग माया में
क्यों तुम नजर नहीं आते?
क्यों छलते रहते तुम सबको
यहाँ नहीं तुम, वहां नही
नजर नहीं आते हो जबकि
निश्चल व अविराम हो।
माना हम सब भूले तुमको
पर तुम कैसे भूल गए ?
हम अज्ञानी मुँह मोड़े थे
तुम भी क्यों मुँह मोड़ गए ?
जीवन का उपहार दिया जो
हम आदर उसे नहीं दे पाए
इसीलिए नाराज हो शायद
व्यर्थ की कार गुजारी से ।
पर अब जो तुम स्व भवन मे आए
इस हृदय भवन में भी आओ ।
कण-कण में अब प्रतिभाषित हो
राम-राज्य फिर से लाओ।
🙏

Language: Hindi
94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
राही
राही
RAKESH RAKESH
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
Ravi Prakash
शान्त सा जीवन
शान्त सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
💐प्रेम कौतुक-415💐
💐प्रेम कौतुक-415💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
परिस्थितीजन्य विचार
परिस्थितीजन्य विचार
Shyam Sundar Subramanian
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
श्याम सिंह बिष्ट
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
"यह आम रास्ता नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
उठो द्रोपदी....!!!
उठो द्रोपदी....!!!
Neelam Sharma
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
अंसार एटवी
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...