Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2016 · 2 min read

हे पुरुष मानसिकता बदल लो

हे पुरुष मेरी तुझसे हाथ जोड़ कर इतनी सी विनती है।
मानसिकता बदल ले तू अगर तेरी देवताओं में गिनती है।

मेरी ही कोख से तूने जन्म लिया।
मेरी ही छाती का तूने दूध पिया।
मेरे राखी के धागे को कलाई पर बँधवा कर
तूने मेरी रक्षा करने का वचन दिया।
मुझ संग सात फेरे लेकर अपना घर आबाद किया।
फिर भी तुझे नारी उपभोग की वस्तू क्यों दिखती है?

कोई तुम्हारे घर की नारी को तंग करता है।
आते जाते रास्ते में उन्हें देख आहें भरता है।
उनसे बात करने के लिए, उन्हें अपने झूठे
प्रेम जाल में फंसाने के लिए घूमता है।
जब उन पर कोई अश्लील फब्तियाँ कसता है।
उस समय ही तेरी आत्मा क्यों चीखती है?

जब दुसरे घर की नारी छेड़ी जाती है।
तुम को कमी उस नारी में ही नजर आती है।
फिर तुम कहते हो कि संभल कर नहीं चलती,
मोबाइल रखती है, खुद ही बचना नहीं चाहती है।
ढंग से कपड़े न पहनकर शरीर को दिखाती है।
दोष होता है तुम्हारा, आजादी मेरी क्यों छिनती है?

मेरे रास्ते बदलने से क्या समस्या खत्म हो जाएगी।
क्या दुसरे रास्ते वालों की नियत खराब नहीं पाएगी।
सब कुछ मैं ही करूँ, मैं ही बदलूं अपने आपको,
तुम्हें तुम्हारी घटिया सोच बदलने में शर्म आएगी।
झूठ नहीं तुम्हारी लगाई आग तुम को ही जलाएगी।
भूल गये तुम से ही तुम्हारी आने वाली पीढ़ी सीखती है।

बुर्के में जो होती है वो तो अंग प्रदर्शन नहीं करती।
एक पांच सात साल की बच्ची मोबाइल नहीं रखती।
फिर भी उनका बलात्कार कर देते हो तुम पुरुष,
उनकी पुकार नहीं सुनाई देती जो चिल्लाती है डरती।
सोच बदल कर देखो स्वर्ग से सुंदर बन जाएगी धरती।
विचार करना हे पुरुष “”सुलक्षणा”” सच ही लिखती है।

Language: Hindi
1 Comment · 378 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
खुद पर यकीं
खुद पर यकीं
Satish Srijan
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
Harminder Kaur
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
जाने कहां गई वो बातें
जाने कहां गई वो बातें
Suryakant Dwivedi
छाती
छाती
Dr.Pratibha Prakash
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्राप्त हो जिस रूप में
प्राप्त हो जिस रूप में
Dr fauzia Naseem shad
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
"अमृत और विष"
Dr. Kishan tandon kranti
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
💐प्रेम कौतुक-335💐
💐प्रेम कौतुक-335💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
2290.पूर्णिका
2290.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
Loading...