Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2016 · 1 min read

हे! पार्थ सुनो परिचय मेरा ।

हे ! पार्थ सुनो परिचय मेरा ।
हम में तुम में कण- कण में मैं
सर्वत्र सदा अभिनय मेरा ।।
फूलों कलियों काँटो में मैं
सौरभ पराग मधुपों में मैं
सुख- दुःख के निज विषयों में मैं
लय- प्रलय धरा अम्बर में मैं
उस युग में था इस युग हूँ
मैं युगों रहूँ निश्चय मेरा
अवनति उन्नति उपक्रम भी मैं
ऋतु समय चक्र का भी मैं
राधा- मोहन दोनों ही मैं
सारे जग का सत्क्रम भी मैं
पीयूष गरल विषहर भी मैं
क्यों मन में हो संशय मेरा
मैं आदि- अन्त अक्षय अगम्य
अति सूक्ष्मरूप संसार भी मैं
मैं महाकाल का शंख- नाद
तद्आत्म रूप विस्तार भी मैं
मैं चिर- परिचित वह ब्रह्म- नाद

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
"आओ उड़ चलें"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
उनको देखा तो हुआ,
उनको देखा तो हुआ,
sushil sarna
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
वाणी से उबल रहा पाणि
वाणी से उबल रहा पाणि
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
Phool gufran
कान्हा वापस आओ
कान्हा वापस आओ
Dr Archana Gupta
शब्द
शब्द
Paras Nath Jha
उच्च पदों पर आसीन
उच्च पदों पर आसीन
Dr.Rashmi Mishra
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
याद
याद
Kanchan Khanna
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
■सामान संहिता■
■सामान संहिता■
*प्रणय प्रभात*
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...