Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 1 min read

हे परम पिता !

ईश्वर ने कभी चुना जिसे
मेरे जन्म का खास हेतु
भव सागर के लिए वही
होता मेरे लिए एक सेतु
पर ईश्वर की इच्छा भर ही
मिला मुझे उसका सान्निध्य
एक बड़ी भूमिका निभा गए
शायद पूर्वजन्म के कृतकृत्य
अल्पकाल के लिए ही मुझे
मिला भले पिता का सुख
पिता की मौजूदगी ही हर
लेती सभी किस्म के दुख
इसका आभास तब हुआ
जब काल ने किया प्रहार
बचपन में साथ छोड़ दूर हो
गया वो मैं जिसका विस्तार
हमें कदम कदम पर महसूस
हुआ उसके दूर होने का गम
फिर भी आजीवन आभारी
रहेंगे उस पुण्यात्मा के हम
उनके रचे उपवन में हुआ
पालन,पोषण और विकास
फिर भी मन शून्य में ढ़ूंढ़ता
रहा पितृ आशीषों का प्रसाद
उनके पुण्यों से आबाद रही
मेरे इस जीवन की बगिया
सूक्ष्म रूप से मिली हमें नित
उनके यश से ऊर्जा बढ़िया
उनके ही नाम से मिला हमें
गांव समाज में सदा सम्मान
तमाम प्रतिकूलताओं के बाद
भी जीवन सफर रहा आसान
हम दिल दिमाग से हर दिन
उनकी आराधना करते हैं
सिर पर उनका सदा ही हाध
रहे बस यही प्रार्थना करते हैं
मानव हूं कुछ त्रुटियां होंगी
वो महामना मुझ पे दया करें
जो भी कमियां रह जाती हैं
उन्हें गलती मानके क्षमा करें
पितृ ऋण से कोई नहीं उऋण
हुआ,वेदों ने यही बताया है
पिता का जितना भी सान्निध्य
मिले वो भी ईश्वर की माया है
हे परमपिता मैं शरणागत, नित
मुझ पर दया दृष्टि रखना
आदर्श पिता के न विस्मृत हों
मानस को सदा सजग रखना

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चोट शब्दों की ना सही जाए
चोट शब्दों की ना सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
माँ
माँ
Sidhartha Mishra
"तहजीब"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
कुछ लोग बड़े बदतमीज होते हैं,,,
विमला महरिया मौज
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"दुनियादारी के रिश्तों की पींग मिज़ाजपुर्सी से मातमपुर्सी तक
*Author प्रणय प्रभात*
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
2445.पूर्णिका
2445.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
पारा बढ़ता जा रहा, गर्मी गुस्सेनाक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
हिंदू कट्टरवादिता भारतीय सभ्यता पर इस्लाम का प्रभाव है
Utkarsh Dubey “Kokil”
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
Loading...