Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।

मां की कोमल ममता लिखो
या पिता का प्यार लिखो
हे कलम तुम —–
प्रेम का पूरा संसार लिखो ।

बच्चे की किलकारी लिखो
या प्रेमिका का श्रृंगार लिखो ।
हे कलम तुम ——–
कवि के मन का विचार लिखो ।

युवाओं का संघर्ष लिखो
या अनुभवों की बौछार लिखो ।
हे कलम तुम——
पूरे जीवन का सार लिखो।

महापुरुषों का दान लिखो
या रोज का व्यापार लिखो।
हे कलम तुम——
सबसे सबका सरोकार लिखो।

गरीबी का बढ़ता भार लिखो
या घर में फैला अंधियार लिखो
हे कलम तुम——
प्रार्थना रुपी पुकार लिखो ।

अज्ञानता का फैला जाल लिखो
या अनैतिकता का अहंकार लिखो ।
हे कलम तुम——
मानवता पर उठा हर वार लिखो।

लक्ष्मी वर्मा ‘प्रतीक्षा’
खरियार रोड,ओड़िशा

Language: Hindi
1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप
आप
Bodhisatva kastooriya
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
काव्य में विचार और ऊर्जा
काव्य में विचार और ऊर्जा
कवि रमेशराज
*हिंदी*
*हिंदी*
Dr. Priya Gupta
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
अलविदा
अलविदा
ruby kumari
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
Sanjay ' शून्य'
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
ख़यालों में रहते हैं जो साथ मेरे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
ताप जगत के झेलकर, मुरझा हृदय-प्रसून।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2387.पूर्णिका
2387.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
बाल कविता: मुन्ने का खिलौना
Rajesh Kumar Arjun
کوئی تنقید کر نہیں پاتے ۔
کوئی تنقید کر نہیں پاتے ۔
Dr fauzia Naseem shad
इसरो का आदित्य
इसरो का आदित्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"असफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
𑒧𑒻𑒟𑒱𑒪𑒲 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒮𑒧𑓂𑒣𑒴𑒩𑓂𑒝 𑒠𑒹𑒯𑒏 𑒩𑒏𑓂𑒞 𑒧𑒹 𑒣𑓂𑒩𑒫𑒰𑒯𑒱𑒞 𑒦 𑒩𑒯𑒪 𑒁𑒕𑒱 ! 𑒖𑒞𑒻𑒏
𑒧𑒻𑒟𑒱𑒪𑒲 𑒦𑒰𑒭𑒰 𑒮𑒧𑓂𑒣𑒴𑒩𑓂𑒝 𑒠𑒹𑒯𑒏 𑒩𑒏𑓂𑒞 𑒧𑒹 𑒣𑓂𑒩𑒫𑒰𑒯𑒱𑒞 𑒦 𑒩𑒯𑒪 𑒁𑒕𑒱 ! 𑒖𑒞𑒻𑒏
DrLakshman Jha Parimal
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
👍
👍
*प्रणय प्रभात*
पिता
पिता
Manu Vashistha
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...