Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

हे ! अम्बुज राज (कविता)

हे! अम्बुज राज कहाँ छिपे हो
मानव धरा पर प्यासी है
गाँव-गाँव और शहर-शहर
लोगों में बढ़ी बेचैनी है
हे! अम्बुज राज …..

लोग हैं प्यासे धरा है प्यासी
बाग-बगीचे, खेत भी प्यासी
ताल-तलैया सब सुख गए हैं
प्यासी है जल की रानी
हे! अम्बुज राज…..

काले बदरा घिर आते हैं
ललचा-ललचा फिर चले जाते हैं
अब बतलाओं कब बरसोगे
दूर करो सबकी परेशानी
हे! अम्बुज राज…….

नभ पर जब तुम छा जाते हो
देख कर सब खुश हो जाते हैं
छाकर तुम लुप्त हो जाते हो
करते हो क्यों आंख मिचौनी?
हे! अम्बुज राज……..
हे! अम्बुज राज कहाँ छिपे हो

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
Ravi Prakash
LEAVE
LEAVE
SURYA PRAKASH SHARMA
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
चलती है जिंदगी
चलती है जिंदगी
डॉ. शिव लहरी
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
Sushila joshi
जो गुजर गया
जो गुजर गया
ruby kumari
पर्यावरण संरक्षण*
पर्यावरण संरक्षण*
Madhu Shah
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
"साफ़गोई" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
Basant Bhagawan Roy
🙅हस्तिनापुर🙅
🙅हस्तिनापुर🙅
*प्रणय प्रभात*
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
वर्षा जीवन-दायिनी, तप्त धरा की आस।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...