Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

हेेे जो मेरे पास

हेेे जो मेरे पास
लगता हे वो कम तो नही।
हे जो खुशियाँ कुछ पल की
कही वो कम तो नही।
दिखता हे जो दूर हमसे
कही ये मेरा वहम तो नही।
हे आँखों में आँसू
कही ये दर्द का कोई मरहम तो नही।
हे चन्द -पल की खुशियाँ
चल रही हे जो साँसे, कही वो कम तो नही।

1 Like · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
Buddha Prakash
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
*आ गई है  खबर  बिछड़े यार की*
*आ गई है खबर बिछड़े यार की*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
राखी
राखी
Shashi kala vyas
बरसात के दिन
बरसात के दिन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अग्निपथ के राही"
Dr. Kishan tandon kranti
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
3217.*पूर्णिका*
3217.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...