Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2023 · 1 min read

हे!जगजीवन,हे जगनायक,

हे!जगजीवन,हे जगनायक,
प्रथम पूज्य गणपति विनायक।
भक्तजन आस पुगाते सदा तुम,
दीनन के तुम सदा सहायक।
नीलम शर्मा ✍️

1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
Anil chobisa
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
Ranjeet kumar patre
वक़्त को गुज़र
वक़्त को गुज़र
Dr fauzia Naseem shad
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
क्यों पड़ी है गांठ, आओ खोल दें।
surenderpal vaidya
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
Anis Shah
3118.*पूर्णिका*
3118.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*श्री विजय कुमार अग्रवाल*
*श्री विजय कुमार अग्रवाल*
Ravi Prakash
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
💐प्रेम कौतुक-373💐
💐प्रेम कौतुक-373💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...