Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

हृदय पुकारे आ रे आ रे , रो रो बुलाती मेघ मल्हारें

हृदय पुकारे आ रे आ रे , रो रो बुलाती मेघ मल्हारें
गये पिय कौन विदिशवा, रोवत नैना दिन-रैना रे ..

न जाने का भूल भई है , पवन सुहानी वैरन भई है
का कोई मेरी सौतन भई है, आंचल पुकारे आ अब आ रे

सुनत सजन मेघा भी गायें, विरहा मेरी का तोहे सुनाएँ
छलनी जियरा हूँक उठाये , पीहू पीहू मेरा उर ही पुकारे

ओ हरजाई मेरी याद न आई, काहे तूने मेरी नींदे उड़ाई
आजा साजनवा सेज सजाई..ले जा दे संदेशा कागा कारे
…………………………………………………

Language: Hindi
1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
मुश्किलों से तो बहुत डर लिए अब ये भी करें,,,,
Shweta Soni
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
ना बातें करो,ना मुलाकातें करो,
Dr. Man Mohan Krishna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
Sonam Puneet Dubey
कैसी यह मुहब्बत है
कैसी यह मुहब्बत है
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
गर्मी बहुत पड़ी है तो जाड़े भी आएगें
गर्मी बहुत पड़ी है तो जाड़े भी आएगें
Dr. Sunita Singh
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Chahat
कुछ उलझा उलझा सा सब है
कुछ उलझा उलझा सा सब है
कुमार
अपराजिता
अपराजिता
Shashi Mahajan
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
*वैराग्य के आठ दोहे*
*वैराग्य के आठ दोहे*
Ravi Prakash
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
Miss you Abbu,,,,,,
Miss you Abbu,,,,,,
Neelofar Khan
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
रोना ना तुम।
रोना ना तुम।
Taj Mohammad
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
“अनोखी शादी” ( संस्मरण फौजी -मिथिला दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
"यकीन"
Dr. Kishan tandon kranti
मजदूर
मजदूर
Harish Chandra Pande
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
गुरुकुल भारत
गुरुकुल भारत
Sanjay ' शून्य'
Loading...