Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2016 · 1 min read

हूँ मै नारी/मंदीप

हूँ मै नारी,
डरती हुई नारी,
पल पल मरती हूँ नारी,
बजारू नजरो से बचती हुई नारी।
हूँ मै नारी….

बिलकती हुई नारी,
खुद को बचाती हुई नारी,
अपनों का जुल्म सहती नारी,
अपनी ही किस्मत को कोसती नारी।
हूँ मै नारी….

घर की लाज बचाती नारी,
अपने सपनो को मरती नारी,
अपने आँसुओ को गिनती नारी,
अपना पेट काट दुसरो का पेट बरती नारी।
हूँ मै नारी….

कोख में मरती नारी,
दहेज की आग में जलती नारी,
घुगट की आग में रहती नारी,
माँ बाप की लाज बचाती नारी।
हूँ मै नारी….

सब्र का घूंट पीती नारी,
प्यार को तरसती नारी,
घर में ही दफन होती नारी,
गैरो की नजरो का बलत्कार सहती नारी,
हूँ मै नारी ….
हूँ मै नारी…….

मंदीपसाई

Language: Hindi
548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-361💐
💐प्रेम कौतुक-361💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोरोना चालीसा
कोरोना चालीसा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
दिखावे के दान का
दिखावे के दान का
Dr fauzia Naseem shad
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ खोज-बीन / तंत्र-जगत (परत दर परत एक खुलासा)
■ खोज-बीन / तंत्र-जगत (परत दर परत एक खुलासा)
*Author प्रणय प्रभात*
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
*बादल (बाल कविता)*
*बादल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
सूरज आया संदेशा लाया
सूरज आया संदेशा लाया
AMRESH KUMAR VERMA
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
साइबर ठगी हाय रे, करते रहते लोग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
★नज़र से नज़र मिला ★
★नज़र से नज़र मिला ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
Loading...