Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

“हूँ एक कहानी”

हूँ एक कहानी,
थोडी जानी,
थोडी पहचानी ,
पढ सको तो पढ लो ,
नहीं कोइ अनजानी,
हूँ एक कहानी.
शब्दों में सनी हूँ ,
भावों में सिमटी हूँ ,
लेखनी की पीडा से उपजी हूँ ,
अक्षर -अक्षर घोल कर उमडी हूँ ,
कागज़ -कागज़ पैदल चली हूँ ,
मगर नहीं की मनमानी,
हूँ एक कहानी,
थोडी जानी ,
थोडी पहचानी.

…निधि…

Language: Hindi
2 Comments · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Rajni kapoor
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
गुरु का महत्व
गुरु का महत्व
Indu Singh
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Pratibha Pandey
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
चुनावी घोषणा पत्र
चुनावी घोषणा पत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙅मेरे विचार से🙅
🙅मेरे विचार से🙅
*प्रणय प्रभात*
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
କୁଟୀର ଘର
କୁଟୀର ଘର
Otteri Selvakumar
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
मरने के बाद भी ठगे जाते हैं साफ दामन वाले
Sandeep Kumar
Loading...