Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“हूँ एक कहानी”

हूँ एक कहानी,
थोडी जानी,
थोडी पहचानी ,
पढ सको तो पढ लो ,
नहीं कोइ अनजानी,
हूँ एक कहानी.
शब्दों में सनी हूँ ,
भावों में सिमटी हूँ ,
लेखनी की पीडा से उपजी हूँ ,
अक्षर -अक्षर घोल कर उमडी हूँ ,
कागज़ -कागज़ पैदल चली हूँ ,
मगर नहीं की मनमानी,
हूँ एक कहानी,
थोडी जानी ,
थोडी पहचानी.

…निधि…

2 Comments · 196 Views
You may also like:
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
तो ऐसा नहीं होता
"अशांत" शेखर
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
Is It Possible
Manisha Manjari
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
बॉलीवुड का अंधा गोरी प्रेम और भारतीय समाज पर इसके...
हरिनारायण तनहा
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
Waqt
ananya rai parashar
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
घर की इज्ज़त।
Taj Mohammad
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
सुंदर बाग़
DESH RAJ
बचपन की यादें
Anamika Singh
Loading...