Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

हुसन तेरा जालिम/मंदीपसाई

हुसन तेरा जालिम मुझ पर कहर बरसाये,
चाल तेरी मस्तानी मेरे दिल में आग लगाये।

हुसन की मलिका हो या कोई अप्सरा,
देख तेरे हुसन को ये चाँदनी भी सर्मा जाये।

आँखे तेरी झील सी गहरी,
कमर पर केस लम्बे जैसे नागिन बलखाये।

चाल ऐसी की कोई लरजती टहनी,
हवा का जोका भी तुम को छुना चाहे।

करता फ़रयाद “मंदीप” तुम को पाने की,
देखो आँखे में उसके तुम को प्यार ही नजर आये।

मंदीपसाई

263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
आँख से अपनी अगर शर्म-ओ-हया पूछेगा
Fuzail Sardhanvi
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
*हे हनुमंत प्रणाम : सुंदरकांड से प्रेरित आठ दोहे*
Ravi Prakash
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
सृजन
सृजन
Rekha Drolia
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
एक प्यार ऐसा भी
एक प्यार ऐसा भी
श्याम सिंह बिष्ट
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
सबसे बड़ा गम है गरीब का
सबसे बड़ा गम है गरीब का
Dr fauzia Naseem shad
श्रेष्ठ वही है...
श्रेष्ठ वही है...
Shubham Pandey (S P)
#सामयिक ग़ज़ल
#सामयिक ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
Loading...