Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता

ग़ज़ल
हुनर है झुकने का जिसमें दरक नहीं पाता
शजर वो टूटता है जो लचक नहीं पाता

मेरी तो आबरू इसने बचा ही रक्खी है
तेरा लिबास बदन तेरा ढक नहीं पाता

बुरी निगाह से महफूज़ रहतीं हैं हर दम
वो जिनके सर से दुपट्टा सरक नहीं पाता

लगेगा कैसे उसे सब्र का ये फल मीठा
वो तोड़ लेता है पहले ही पक नहीं पाता

सदाक़तो से है रौशन ज़मीर जिसका ‘अनीस’
वो शख़्स राह से अपनी भटक नहीं पाता
– अनीस शाह “अनीस”

Language: Hindi
1 Like · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Hello
Hello
Yash mehra
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
टैडी बीयर
टैडी बीयर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
गहन शोध से पता चला है कि
गहन शोध से पता चला है कि
*Author प्रणय प्रभात*
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
" तिलिस्मी जादूगर "
Dr Meenu Poonia
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
Phool gufran
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
झुग्गियाँ
झुग्गियाँ
नाथ सोनांचली
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
मैंने कभी भी अपने आप को इस भ्रम में नहीं रखा कि मेरी अनुपस्थ
पूर्वार्थ
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" आशिकी "
Dr. Kishan tandon kranti
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
कितना बदल रहे हैं हम ?
कितना बदल रहे हैं हम ?
Dr fauzia Naseem shad
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
*अग्रसेन को नमन (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
भोजपुरीया Rap (2)
भोजपुरीया Rap (2)
Nishant prakhar
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...