Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2024 · 1 min read

हुई नैन की नैन से,

हुई नैन की नैन से,
थोड़ी सी तकरार ।
टाल न पाए नैन की,
नैन मधुर मनुहार ।।

सुशील सरना / 4-3-24

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
"अजीब दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
कविता
कविता
Shiva Awasthi
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
उल्लास
उल्लास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*जोड़कर जितना रखोगे, सब धरा रह जाएगा (हिंदी गजल))*
*जोड़कर जितना रखोगे, सब धरा रह जाएगा (हिंदी गजल))*
Ravi Prakash
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
Atul "Krishn"
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
रिश्ता कमज़ोर
रिश्ता कमज़ोर
Dr fauzia Naseem shad
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
पूर्वार्थ
उलझी रही नजरें नजरों से रात भर,
उलझी रही नजरें नजरों से रात भर,
sushil sarna
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
VINOD CHAUHAN
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*प्रणय प्रभात*
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Anamika Tiwari 'annpurna '
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...