Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा

(1)
जमाना इक्कीसवीं सदी तक का
आधुनिक हो चला

गलीज परम्पराओं से हिसाब बिठाकर
कबतक चलते रहोगे हिसाबियो!
आओ!
अब तो हो जाए
हिसाब किताब बराबर!

(2)

हिसाब
टटका टटका हो सकता है
और बासी भी
और साहित्य टटका रचा होकर भी
हो सकता है
बासी ही

हर बासी का
हम दलित लेखक
टटका हिसाब करने में
यकीन रखते हैं।

(3)

आपके पास आया कवि
हिसाब के साथ प्रस्तुत हो सकता है
और नहीं भी
जबकि
श्रोता का हिसाबी होना
लाजिमी है।

(4)

कवि तुम हो कि मैं

तुम्हें अपनी रचना में
दलित को बरतने नहीं आता
हमें तुम्हारे हिसाब की
कविता बनाने नहीं आता।

(5)

हिसाब बिना प्रश्न लिए भी होते हैं
और बिना उत्तर करने के भी।

(6)

जीतन मांझी से आभाधारित
दो हालिया हिसाब
उद्भूत हुए

छुआछूत की ‘रस्म’ अब भी
दलितों पर तारी है
और विदेशी मूल का भूत सताता
द्विज ब्राह्मणवादियों पर पक्का भारी है।

(7)

कहते हैं
किसी रचना का मूल्य आंकते
गणितीय हिसाबदारी
नहीं चल सकती

मगर
दलित रचनांकन तो
पाई पाई का हिसाब
जोहता है।

(8)

आपके पास
किसी के लिए
जितनी संचित है घृणा
है उतना ही प्रेम भी अगर
हिसाब तो लगाइए
बेहिसाबी में
किसका मोल कैसा है
और है तौल कैसा!

(9)

जहाँ
दो और दो
चार नहीं होता है ।
वहां अक्सर मुनाफे का बेहिसाब
सौदा होता है।

गो कि
बेहिसाब का भी
अपना एक हिसाब होता है!

Language: Hindi
301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
उत्थान राष्ट्र का
उत्थान राष्ट्र का
Er. Sanjay Shrivastava
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
बिटिया !
बिटिया !
Sangeeta Beniwal
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
अर्जुन सा तू तीर रख, कुंती जैसी पीर।
Suryakant Dwivedi
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
नया साल
नया साल
Dr fauzia Naseem shad
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
ईष्र्या
ईष्र्या
Sûrëkhâ
भूख
भूख
Neeraj Agarwal
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
कब होगी हल ऐसी समस्या
कब होगी हल ऐसी समस्या
gurudeenverma198
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
Ms.Ankit Halke jha
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3292.*पूर्णिका*
3292.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
कुटुंब के नसीब
कुटुंब के नसीब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक (मुक्तक)
Ravi Prakash
Loading...