Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

हिन्दी दोहे- चांदी

हिन्दी दोहे :- चाँदी

चाँदी का चम्मच सुना , #राना जब प्रतिमान |
कहने का सारांश तब , सुखमय‌ है शुभ गान ||

राजनीति खेती बनी , चाँदी उगती ‌ खेत |
नेता घर सोना उगे , #राना रहो ‌सचेत ||

चमचों की चाँदी रहे , #राना ‌ सुनते गान |
लोकतंत्र के नाम पर , जनता कूटे धान ||

आभूषण चाँदी रहें , हो गरीब के व्याह |
#राना उनको देखकर , सब कहते है वाह ||

चाँदी जैसा आपका , धवला रहे चरित्र |
#राना यदि संसार में , नैतिकता है मित्र ||

एक श्रृंगार , आनंददा़यक दोहा

पत्नी से #राना कहे , चाँदी‌-सा है रूप ।
यही टिप्पणी नारि को , लगती बड़ी अनूप || | 🙏
***
✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
कुछ भी रहता नहीं है
कुछ भी रहता नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
💐अज्ञात के प्रति-154💐(प्रेम कौतुक-154)
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
shabina. Naaz
"लघु कृषक की व्यथा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मईया रानी
मईया रानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
पहला प्यार नहीं बदला...!!
पहला प्यार नहीं बदला...!!
Ravi Betulwala
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
जन्मदिन पर आपके दिल से यही शुभकामना।
सत्य कुमार प्रेमी
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
हर बार धोखे से धोखे के लिये हम तैयार है
manisha
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
"मुकाबिल"
Dr. Kishan tandon kranti
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
Loading...