Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

हिन्दी दोहा -भेद

19- हिंदी दोहा शब्द- भेद

भेद न अपना दीजिए , कहाँ आप कमजोर |
#राना कहता आपसे , इस पर करो न शोर ||

भेद विभीषण ने दिया , हार गया लंकेश |
#राना अब भी भेद के , मिलते है परिवेश ||

भेद किसी का जानने , करते लोग प्रयास |
मिल जाए #राना अगर , करते फिर उपहास ||

भेदी खोजे भेद को , #राना खोजे वेद |
चोर खोजता छेद को , दुष्टी खोजे खेद ||

चार जनों के बीच में , खुलता है यदि भेद |
#राना निश्चित जानिए , हाथ लगेगा खेद ||
***
राजीव नामदेव “राना लिधौरी”
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
अमर शहीद भगत सुखदेव राजगुरू
Satish Srijan
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
एक उड़ान, साइबेरिया टू भारत (कविता)
Mohan Pandey
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
राह देखेंगे तेरी इख़्तिताम की हद तक,
Neelam Sharma
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
वफादारी का ईनाम
वफादारी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भीड़ की नजर बदल रही है,
भीड़ की नजर बदल रही है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कृषक
कृषक
साहिल
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"सफलता का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
विरहन
विरहन
umesh mehra
Loading...