Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

हिन्दी दोहा-पत्नी

हिन्दी दोहे -विषय – पत्नी

#राना जीवन में सदा, पत्नी है सौगात |
वामअंग कहते उसे , होती नवल प्रभात ||

मेघ बनी रस डालती , सुंदर रखती गेह |
#राना अमरत मानिए ,पत्नी का शुचि नेह ||

देवी है वह प्रेम की , #राना को संज्ञान |
जहाँ गृहस्थी है शुरू , पत्नी है वरदान ||

पत्नी का सम्मान हो , #राना वहाँ उजास |
सही रहें कर्तव्य जब ,घर तब देव निवास ||

परमेश्वर है पति सदा , हरदम रखती ध्यान |
पत्नी के व्रत पति हिती, #राना जाने ज्ञान ||

#राना से पत्नी कहे , परमेश्वर श्रीमान |
सोने के कंगन मुझें , दीजे अब वरदान ||🙆‍♂️🙋😉
***

✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
VISHAL
VISHAL
Vishal Prajapati
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
ये पीढ कैसी ;
ये पीढ कैसी ;
Dr.Pratibha Prakash
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
इंसान भी तेरा है
इंसान भी तेरा है
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
रोमांटिक रिबेल शायर
रोमांटिक रिबेल शायर
Shekhar Chandra Mitra
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
"आदत"
Dr. Kishan tandon kranti
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
अनसोई कविता...........
अनसोई कविता...........
sushil sarna
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
यह कैसी खामोशी है
यह कैसी खामोशी है
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
हिंदी
हिंदी
नन्दलाल सुथार "राही"
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
Loading...