Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,

हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी के बिना, अधूरा है ज्ञान,
हिंदी के बिना है अधूरा संसार।
शब्दों का जादू, भाषा की शान,
हिन्दी हमारी प्यारी, बढ़ाती मान,
हिंदी से मिला है हमे सम्मान।
हिन्दी के सौंदर्य, है अद्वितीय,
हर शब्द में छुपा है अमूल्य रत्न।
हिन्दी दिवस पर, हम सब मिलकर,
इसे बढ़ावा देंगे। बनाएंगे हम हिंदी को महान, हिंदी है हम सबकी जान ,
हिन्दी को जन्मदिवस की शुभकामनाएं,
सबको मिले इसके संग अच्छे सपने।
हिंदी है हिंदूस्तान की शान, हमे है हिंदी पर गर्व।
स्वरा कुमारी आर्या ✍️✍️

142 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*Author प्रणय प्रभात*
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
जब सांझ ढल चुकी है तो क्यूं ना रात हो
Ravi Ghayal
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
Next
Next
Rajan Sharma
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
मत जलाओ तुम दुबारा रक्त की चिंगारिया।
Sanjay ' शून्य'
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
वक्त
वक्त
Astuti Kumari
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
जो गुज़र गया
जो गुज़र गया
Dr fauzia Naseem shad
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
हम नही रोते परिस्थिति का रोना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
24/225. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/225. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुद्दत से संभाला था
मुद्दत से संभाला था
Surinder blackpen
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
Neelam Sharma
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
"दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
Loading...