Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2023 · 1 min read

हिंदी

हिंदी
——–
अभिव्यक्ति का माध्यम खासा,
यह न केवल है एक भाषा।
महारानी मस्तक की बिंदी,
वैसे प्यारी अपनी हिंदी।

देवनागरी लिपि में आई है,
संस्कृत की कोख से जायी है।
पढ़ना लिखना भी सस्ता है,
बहु पुष्पों का गुलदस्ता है।

कितनी उपभाषा की डोली,
बृज,अवधी, मैथली की बोली।
हिंदी सुर राग की है झोली,
बाइस बोली की रंगोली।

यह और बात जन भूल गए,
किसी अन्य भाषा संग झूल गए।
सब हैं सुंदर कोई न गंदी,
पर सबमें अति उत्तम हिंदी।

रचना तिथि 14/09/22

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
1 Like · 392 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
पैर, चरण, पग, पंजा और जड़
डॉ० रोहित कौशिक
"वचन देती हूँ"
Ekta chitrangini
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
गीत प्रतियोगिता के लिए
गीत प्रतियोगिता के लिए
Manisha joshi mani
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
ग़म भूल जाइए,होली में अबकी बार
Shweta Soni
उसे गवा दिया है
उसे गवा दिया है
Awneesh kumar
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चम-चम चमके चाँदनी
चम-चम चमके चाँदनी
Vedha Singh
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
रामेश्वरम लिंग स्थापना।
Acharya Rama Nand Mandal
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
DrLakshman Jha Parimal
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
😊 लघु कथा :--
😊 लघु कथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक -
मुक्तक -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
if you love me you will get love for sure.
if you love me you will get love for sure.
पूर्वार्थ
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
💐प्रेम कौतुक-544💐
💐प्रेम कौतुक-544💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*परियों से  भी प्यारी बेटी*
*परियों से भी प्यारी बेटी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*परसों बचपन कल यौवन था, आज बुढ़ापा छाया (हिंदी गजल)*
*परसों बचपन कल यौवन था, आज बुढ़ापा छाया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
Loading...