Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2022 · 1 min read

हिंदी माता की आराधना

हे हिंदी माता !
हम तेरा गुणगान करें ।
तेरे चरणों में ,
बारंबार नमन करें ।

तेरी हम पर सदा कृपा रहे,
यह सदा वरदान मांगे।
तुझसे रचना शीलता का,
अपार दान मांगे ।

कृपा रहे इतनी माता !
हमारी जिह्वा तुझे पुकारे।
हर धर्म ग्रंथों ,पुराणों ,
साहित्य पुस्तकों में तेरा रूप निहारे ।

साहित्य तो क्या ,
कला ,वाणिज्य ,विज्ञान आदि में ,
तेरा ही वर्चस्व छाया रहे ।
भारत तो क्या सारे विश्व में ,
तेरे नाम का डंका बजता रहे ।

भारत के हर नागरिक के मुख से ,
तू ही गंगा सी बहती रहे ।
धर्म ,भाषा ,क्षेत्र ,इत्यादि का भेद मिटाकर,
स्वतंत्र रूप से तू बहती रहे ।

ह्रदय के मनोभावों को प्रकट करने की ,
क्षमता बस तुझी में है ।
जोड़े जो दिलों को एक दूजे से,
ऐसी कुशलता भी तुझी में है ।

कोई विदेशी भाषा क्या ,
अपनापन और स्नेह बढ़ा पाएगी ?
एक मात्र बस तू ही हे माता !
मनुष्यों को करीब ला पाएगी ।

हम कवि जन धन्य हुए ,
कृतार्थ हुए तेरी शरण में आकार ।
कंचन हुए हम तेरी पावन रसधारा में ,
आकंठ डुबकी लगाकर ।

ऐसी ही सदा हे हिंदी मां !
हम पर कृपा बरसाते रहना ।
इस जन्म तो क्या हर जन्म में,
हे देवनागरी ! हमारे जीवन को निहाल करना।

देवों की वाणी तू!
स्वर्ग की है दिव्य देवी ।
वरदान दे हमें बने रहे तेरे ,
सदा सच्चे सेवी ।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
सच तो हम तुम बने हैं
सच तो हम तुम बने हैं
Neeraj Agarwal
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
जानता हूं
जानता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
जग का हर प्राणी प्राणों से प्यारा है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
LOVE
LOVE
SURYA PRAKASH SHARMA
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
साहित्य मेरा मन है
साहित्य मेरा मन है
Harminder Kaur
मौसम
मौसम
Monika Verma
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
Lokesh Sharma
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
सावन का महीना
सावन का महीना
विजय कुमार अग्रवाल
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
#देसी ग़ज़ल
#देसी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ..
माँ..
Shweta Soni
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
Loading...