Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

हिंदी दिवस

हिंदी के उत्थान का ,केवल ये उपचार
रोज मना हिंदी दिवस, इसका करो प्रचार
इसका करो प्रचार, इसे दिल से अपनाओ
बच्चों में ये बीज बालपन से उपजाओ
तभी अर्चना भाल , सजेगी जैसे बिंदी
सबके दिल पर राज ,करेगी अपनी हिंदी
डॉ अर्चना गुप्ता

4 Comments · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
हमारा हाल अब उस तौलिए की तरह है बिल्कुल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अब सच हार जाता है
अब सच हार जाता है
Dr fauzia Naseem shad
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
*उत्तर-दक्षिण एक, तमिल हो अथवा काशी (कुंडलिया)*
*उत्तर-दक्षिण एक, तमिल हो अथवा काशी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
बाबा केदारनाथ जी
बाबा केदारनाथ जी
Bodhisatva kastooriya
12
12
Dr Archana Gupta
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-541💐
💐प्रेम कौतुक-541💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोच
सोच
Sûrëkhâ Rãthí
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
रोना
रोना
Dr.S.P. Gautam
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
मैं नन्हा नन्हा बालक हूँ
अशोक कुमार ढोरिया
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...